सोमवार, 19 अक्तूबर 2009

तनहा है कोई!

तनहा है कोई!
एक अरसे के बाद यूँ ही
कुछ दरख्तों के बीच
हवा गुजर सी जाती है
हौले से
बिलकुल पास से...

लगता है दूर
कहीं तनहा है कोई
शायद भीड़ में
बिलकुल तनहा
या फिर उन चिट्ठियों से दूर,
जिन्हें कभी हम लिखा करते थे
या बार-बार देखा करते थे
छुपा कर
घर या पीछे वाले बगीचे के
किसी कोने में

पोस्टमैन की घंटियों में
ढकी बैचैनी
बेहद अकेले में भी होता था
भीड़ का अहसास

पर इन चिट्ठियों की शक्ल
कुछ गुम सी हो गयी
मंद-मंद झोंके वाले डाकिये जैसी
महसूस तो होता है
सबको कि तनहा है कोई
जब चलती है हवा बिलकुल छूकर...

5 टिप्‍पणियां:

  1. आप सौभाग्यशाली मित्रों का स्वागत करते हुए मैं बहुत ही गौरवान्वित हूँ कि आपने ब्लॉग जगत में दीपावली में पदार्पण किया है. आप ब्लॉग जगत को अपने सार्थक लेखन कार्य से आलोकित करेंगे. इसी आशा के साथ आपको दीप पर्व की बधाई.
    ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं,
    http://lalitdotcom.blogspot.com
    http://lalitvani.blogspot.com
    http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
    http://ekloharki.blogspot.com
    http://adahakegoth.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. चिटठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. लेखन के द्वारा बहुत कुछ सार्थक करें, मेरी शुभकामनाएं.
    ---

    हिंदी ब्लोग्स में पहली बार रिश्तों की नई शक्लें- Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान
    (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

    उत्तर देंहटाएं
  3. हुज़ूर आपका भी एहतिराम करता चलूं.........
    इधर से गुज़रा था, सोचा, सलाम करता चलूं....
    http://samwaadghar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने ! मेरे इस ब्लॉग पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं